Drone (ड्रोन) के ऐसे 5 फीचर्स जो आपने सुने नहीं होंगे पहले कभी

फोटोग्राफी और विडियोग्राफी के कारण आज अधिकतर लोग Drone (ड्रोन) के नाम से परिचित हैं, परंतु क्या आप जानते हैं की ड्रोन क्या है? साधारण भाषा में ड्रोन एक उड़ने वाला रोबोट है जिसे दूर से कंट्रोल किया जा सकता है या उड़ाया जा सकता है। ड्रोन को Unmanned armed vehicle (UAV) के नाम से भी जाना जाता है।

ड्रोन में विभिन्न प्रकार के सेन्सर, रोटर, प्रोपेलर, जीपीएस इत्यादि का उपयोग किया जाता है। ड्रोन मुख्यता दो मोड में कार्य करता है, फ्लाइट मोड और नेविगेसन मोड। प्रत्येक ड्रोन कंट्रोलर के साथ आता है जिसके माध्यम से Drone (ड्रोन) को लांच, नेविगेट और लैंड कराया जा सकता है। ड्रोन का उपयोग करने से पहले उसकी सम्पूर्ण जानकारी अवश्य प्राप्त करें। इस लेख में हम ड्रोन के कुछ खास फीचर्स की बात करेंगे जो आपने पहले कभी नहीं सुने होंगे।

ड्रोन्स के कुछ खास फीचर्स

Return To Home

जैसा की नाम से ज़ाहिर है, “घर वापसी” अर्थात लैंडिंग ज़ोन पर वापस जाना। ड्रोन में इस फीचर को ऑन करने से ड्रोन स्वतः ही अपने लैंडिंग ज़ोन पर वापस आ जाएगा। यह फंकशन विभिन्न स्थितियों जैसे कंट्रोलर से कांटैक्ट छूट जाना या बैटरी कम हो जाना इत्यादि के लिए अत्यंत उपयुक्त है। ध्यान रहे की इस फंकशन को ऑन करने के साथ आप ड्रोन को होम पॉइंट के लिए एक दम सही और मजबूत जीपीएस सिग्नल को अवश्य सेट करने दे। इससे ड्रोन Return to home के माध्यम से एक दम सही लोकेसन पर लैंड होगा और आपका ड्रोन तथा डाटा सुरक्षित रहेगा। 

Autonomous case landing

जैसा ही हम जानते हैं की Drone( ड्रोन) को लांच और लैंड करने के लिए एक समान वाली सतह चाहिए होती है लेकिन कभी – कभी यह संभव नहीं हो पता हैं। ऐसे में कई ड्रोन समान सतह (flat surface) वाले Drone (ड्रोन) केस के साथ आते हैं। इन केस के माध्यम से ड्रोन आसानी से लांच तथा लैंड कर सकता है। लैंडिंग के समय ड्रोन स्वतः ही इस केस को डीटेक्ट कर लेता है और लैंड कर जाता है। 

3600 obstacle avoidance

इस फीचर के माध्यम से ड्रोन अपने आस – पास के क्षेत्र में आ रहे किसी भी बाधा को डीटेक्ट करते हुए और उनसे बचते हुए अपने गंतव्य पर पहुंचता है। यह फीचर ड्रोन के साथ डाटा को भी सुरक्षित रखता है। यह फीचर ड्रोन की सुरक्षित लैंडिंग और लांचिंग कराने में मददगार होता है।

Boost Button

इस फंकशन का उपयोग ड्रोन की स्पीड बढ़ाने के लिए किया जाता है। यदि आप का ड्रोन उड़ रहा है और आप ड्रोन को एक पॉइंट से दूसरे पॉइंट पर जल्दी पहुंचाना चाहते हैं तो आप बूस्ट बटन का उपयोग कर सकते हैं, इससे ड्रोन अधिकतम स्पीड से उड़ने लगेगा और आपको मैनुअली कुछ भी नहीं करना पड़ेगा।

Interval photo mode/Timed shot

इस फीचर के माध्यम से उपभोक्ता दिये गए समय अंतराल पर फोटो खींच सकते हैं। इस फीचर को ऑन करते हुए उपभोक्ता समय अंतराल को पहले से ही सेट कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें- OnePlus ला रहा है अपने यूजर्स के लिए नया अपडेट

आम लोगों ने ड्रोन (Drone) का उपयोग विडियोग्राफी और फोटोग्राफी में होते हुए अधिक देखा है, लेकिन किसका उपयोग विभिन्न क्षेत्रों जैसे की aerial surveillance, कृषि, मिलिट्री, फिल्म निर्माण, मेडिकल विभाग आदि में किया जाता है। मार्केट में विभिन्न – विभिन्न प्रकार के ड्रोन उपलब्ध हैं, ड्रोन के उपयोग या प्रकार के आधार पर प्रत्येक ड्रोन मॉडेल के फीचर्स भी अलग – अलग हो सकते हैं। उपभोक्ता अपनी जरूरत और कार्यक्षेत्र के अनुसार ड्रोन खरीद सकते हैं। ध्यान रखें की ड्रोन को कहीं भी उड़ाने के लिए अनुमति अवश्य लें, इसके लिए उपभोक्ता को Directorate General of Civil Aviation (DGCA) में रजिस्टर होना होगा और अनुमति के लिए दिये गए नियमों का अनुसरण करना होगा।